Search More

story > Independence Day

देश प्रेम पर एक कहानी.

देश प्रेम पर एक कहानी. . .

किसी पेड़ पर कुछ पक्षी रहते थे. . 
एक दिन उस पेड़ में आग लग गयी, तब वहा खड़े हुए कवि ने कहा:-

"आग लगी इस व्रक्ष में जलते इसके पात, तुम क्यों जलते पक्षियों जब पंख तुम्हारे पास" पक्षियों ने उत्तर दिया:-

"फल खाये इस व्रक्ष के गंदे किये है पात, अब हमारा धर्म यही हम जले इसी के साथ". . .
जब वो पक्षी हो कर इतना सोच सकते है तो हम तो भगवान की सबसे सुंदर और ताकतवर रचना है. . . हम क्यों नही. . . आओ आज स्वतंत्रता दिवश के मोके पर शपथ ले के 

"देश मेरा मैं देश के लिए". . . देश हमे देता है सब कुछ हम भी तो कुछ देना सीखे. . .
जय हिंद जय हिंद की सेना. . . हमें भारतीय होने पर गर्व है. . . 
. 
सभी देश वासियों को स्वतंत्रता दिवश (15 अगस्त) की हार्दिक शुभकामनाये.

Latest story