Search More

poems > Lohari

सुप्रभात मित्रो लोहरी की लख लख

सुप्रभात मित्रो
लोहरी की लख लख बधाई आप 
सब को..........

मुझे गाँव की याद है आती ,
मुझे माटी की खुशबु है भाती ।
हमने देखेँ यहाँ मेले ,
इस माटी मे हैँ खेले ।
जिनकी याद हैँ बहुत आती ,
वो सब मेरे साथी ।

हम माटी को करेगे नमन
हम यहाँ लेते रहेगे जनम ।

भारत माता की जय

Latest poems