Search More

poems > Time Pass

अगर औरत पर हाथ उठाये

अगर औरत पर हाथ उठाये तो ज़ालिम ,
औरत से पिट जाये तो बुजदिल ,

औरत को किसी के साथ देख कर लड़ाई करे तो जुलुस ,
चुप रहे तो बे -गैरत ,
घर से बाहर रहे तो आवारा ,

घर में रहे तो नाकारा ,
बचों को डांटे तो जालिम ,
न डांटे तो लापरवाह ,
औरत को नौकरी से रोके तो शक्की मिजाज़ ,
न रोके तो बीवी की कमाई खाने वाला ,
माँ की माने तो माँ का चमचा ,
बीवी की सुने तो जोरू का गुलाम ...
न जाने कब आएगा . . . . . .

" HAPPY MEN'S DAY "

Latest poems